Forum

कला जगत में सफलता क...
 
Notifications
Clear all

कला जगत में सफलता के योग


Neeraj Goel
(@neeraj-goel)
Eminent Member Registered
Joined: 6 months ago
Posts: 21
Topic starter  

ग्लैमर की चकाचौंध भरी दुनिया में जाने का सपना अधिकांश युवा देखते हैं क्योंकि इस क्षेत्र में नाम, प्रसिद्धि और भरपूर पैसा है। टीवी और फिल्म इंडस्ट्री में प्रवेश पाने के लिए हजारों युवा हर साल मुंबई का रूख करते हैं, लेकिन सफलता कुछ को ही मिल पाती है, बाकी लोग थक-हारकर वापस लौट जाते हैं। ग्लैमर इंडस्ट्री में न केवल अभिनय आता है, बल्कि गायन, संगीत, फिल्म लेखन जैसी अनेक विधाएं भी शामिल होती हैं। ज्योतिष की दृष्टि से देखा जाए तो ग्लैमर इंडस्ट्री में सफल होना या न होना व्यक्ति की जन्म कुंडली में मौजूद ग्रह स्थितियों पर निर्भर करता है। कई लोग इस क्षेत्र में सालों से मेहनत कर रहे हैं लेकिन फिर वे गुमनाम ही हैं, जबकि कुछ लोग रातों-रात दुनियाभर में फेमस हो जाते हैं।

शुक्र को कला एवं सौंदर्य का कारक माना जाता है

ज्योतिष शास्त्र में शुक्र को कला एवं सौंदर्य का कारक माना जाता है। शुक्र से ही संगीत, नृत्य, अभिनय की योग्यता आती है। बुध बुद्धि का तथा चंद्रमा मन एवं कल्पनाशीलता का कारक ग्रह होता है कला जगत में कामयाबी पाने के लिए इन तीनों ग्रहों का शुभ एवं मजबूत होना बहुत ही आवश्यक है।

द्वितीय, पंचम, दशम का आंकलन

अभिनय तथा गायन के लिए आवाज का अच्छा होना जरूरी है। आवाज यानी वाणी की स्थिति कुंडली के द्वितीय भाव से देखी जाती है। पांचवां भाव मनोरंजन स्थान होता है। इन दोनों भावों के साथ ही दशम भाव जो आजीविका का भाव माना जाता है इन सभी से यह आंकलन किया जाता है कि कोई व्यक्ति कलाकार बनेगा या नहीं अथवा कला के किस क्षेत्र में उसे अधिक सफलता मिलेगी। लग्न तथा लग्नेश (लग्न का स्वामी ग्रह) भी इस विषय में काफी प्रमुख माने जाते हैं।

अभिनय, गायन एवं संगीत में सफलता दिलाने वाले योग

वृषभ या तुला लग्न की कुंडली में यदि शुक्र एवं बुध की युति दशम या पंचम भाव में हो तो व्यक्ति अभिनय की दुनिया में ख्याति प्राप्त कर सकता है।

पंचम भाव जिसे मनोरंजन भाव कहते हैं उस पर लग्नेश की दृष्टि हो साथ ही शुक्र या गुरु भी उसे देखते हों तो व्यक्ति अभिनय के क्षेत्र में कॅरियर बना सकता है।

शुक्र, बुध एवं लग्नेश जिस कुंडली में केंद्र भाव में बैठे हों उन्हें कला जगत में कामयाबी मिलने की अच्छी संभावना रहती है।

तृतीय भाव का स्वामी शुक्र के साथ हो तो भी जातक एक अच्छा कलाकार बन सकता है।

कुछ विशेष योग

कुंडली में मालव्य योग, शश योग, गजकेसरी योग, सरस्वती योग हों तो व्यक्ति में कलात्मक गुण होते हैं। अपनी रुचि के अनुरूप वह जिस क्षेत्र में अपनी योग्यता को निखारता है उसमें सफलता मिलने की पूरी संभावना रहती है। चंद्रमा पंचम, दशम अथवा एकादश भाव में स्वराशि में बैठा हो तथा शुक्र दूसरे घर में स्थित हो या चंद्र के साथ इन भावों में युति बनाए तो कलाकार बनने के लिए व्यक्ति को प्रेरणा मिलती है। शुक्र चंद्र की इस स्थिति में व्यक्ति अभिनय या गीत, संगीत में नाम रोशन कर पाता है।

सफलता पाने के लिए ये उपाय जरूर करें

ग्लैमर इंडस्ट्री में सफलता पाने के लिए शुक्र, बुध और चंद्र का मजबूत होना आवश्यक है।

चंद्र को मजबूती प्रदान करने के लिए प्रतिदिन चांदी के गिलास से पानी पीएं।

चांदी का कोई आभूषण रिंग, चेन, ब्रेसलेट हमेशा पहनकर रखें।

शुक्र को मजबूत बनाने के लिए सफेद स्फटिक की माला धारण करके रखें।

प्रत्येक शुक्रवार को मिश्री डालकर खीर बनाएं और इसे बच्चों में बांट दें। बुध की मजबूती के लिए प्रत्येक बुधवार को गाय को हरा धनिया खिलाएं।


Quote
Topic Tags

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More