Forum

लग्नानुसार सभी रत्न...
 
Notifications
Clear all

लग्नानुसार सभी रत्नों से शुभाशुभ विचार :


Neeraj Goel
(@neeraj-goel)
Eminent Member Registered
Joined: 7 months ago
Posts: 21
Topic starter  

जन्म कुंडली में जो ग्रह शुभ हो लेकिन वह स्वयं अशुभ, पापी व क्रूर ग्रहों से पीडत होकर कमजोर हो तो उसके प्रभाव को बढ़ाने के लिए उससे सम्बन्धी रत्न किसी योग्य ज्योतिषी की सलाह पर पहनना चाहिए ! यहाँ दो बातें ध्यान रखनी चाहिए- पहली बात रत्न वही धारण करना चाहिए जो लग्न को नुकसान ना पहुचाये अर्थात लग्न से मित्रवत (स्थिति व पंचधा मैत्री) होना चाहिए और दूसरी बात ध्यान देने की है की सूर्य और चन्द्रमा को छोडकर शेष ग्रह २-२ राशियों के स्वामी है, जिससे यदि कोई ग्रह एक शुभ और एक अशुभ भाव का स्वामी हो तो उसे प्रभावी बनाने से दोनों भावों के फलों में वृद्धि होगी इस कारण से ऐसे ग्रह का रत्न धारण बहुत ही विचार से करना चाहिए !सभी लग्न में कुछ ग्रहों के रत्नों को मोटे तौर पे त्याग दिया जाता है और कुछ ग्रहों के रत्नों को उपयोग में लेते है ! लग्नों की स्थिति अनुसार सभी का फल निम्नलिखित है !

मेष लग्न :

ग्रह – रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
पंचमेश, त्रिकोणेश, योगकारक
अतीव शुभ
चंद्र – मोती
चतुर्थेश, केन्द्रेश, मित्र, तटस्थ
सम*
मंगल – मूंगा
लग्नेश, अष्टमेश
शुभ#
बुध – पन्ना
पराक्रमेश, षष्ठेश, अकारक, शत्रु
अशुभ
गुरु – पुखराज
भाग्येश, व्ययेश, त्रिकोणेश, मित्र
सम
शुक्र – हीरा
मारकेश, केन्द्रेश, शत्रु
अशुभ
शनि – नीलम
आयेश, केन्द्रेश, बाधक
सम
*केंद्र के ग्रह अपनी शुभता या अशुभता या छोड देते है ! यदि दो राशियों के स्वामी है तो अपनी दूसरी राशि का फल करते है !
# लग्नेश पर अष्टमेश होने का दोष नहीं लगता है !

वृष लग्न :

ग्रह – रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
केन्द्रेश, सुखेश, शत्रु, तटस्थ
सम
चंद्र – मोती
तृतीयेश, पराक्रमेश
अशुभ
मंगल – मूंगा
सप्तमेश, मारकेश, व्ययेश
अशुभ
बुध – पन्ना
पंचमेश, त्रिकोणेश, धनेश
शुभ
गुरु – पुखराज
अष्टमेश, आयेश, बाधक
अशुभ
शुक्र – हीरा
लग्नेश, षष्ठेश
शुभ
शनि – नीलम
भाग्येश, कर्मेश, योगकारक
शुभ

मिथुन लग्न :

ग्रह – रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
अकारक, पराक्रमेश
अशुभ
चंद्र – मोती
धनेश, तटस्थ
सम
मंगल – मूंगा
षष्ठेश, एकादशेश, अकारक
अशुभ
बुध – पन्ना
लग्नेश, चतुर्थेश, योगकारक
शुभ
गुरु – पुखराज
सप्तमेश, कर्मेश, बाधक, मारक
अशुभ
शुक्र – हीरा
त्रिकोणेश, व्ययेश, मित्र
शुभ
शनि – नीलम
भाग्येश, अष्टमेश
सम

कर्क लग्न :

ग्रह – रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
धनेश, मित्र, सामान्य मारक
सम
चंद्र – मोती
लग्नेश, कारक
शुभ
मंगल – मूंगा
योगकारक, त्रिकोणेश, कर्मेश
अतीव शुभ
बुध – पन्ना
अकारक, पराक्रमेश, व्ययेश
अशुभ
गुरु – पुखराज
षष्ठेश, भाग्येश, तटस्थ
सम
शुक्र – हीरा
बाधक, केन्द्रेश, आयेश
अशुभ
शनि – नीलम
मारकेश, अष्टमेश
अशुभ

सिंह लग्न :

ग्रह – रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
लग्नेश, कारक
शुभ
चंद्र – मोती
व्ययेश, मित्र, तटस्थ
सम
मंगल – मूंगा
योगकारक, त्रिकोणेश, केन्द्रेश
शुभ
बुध – पन्ना
मारक, आयेश, एकादशेश
अशुभ
गुरु – पुखराज
पंचमेश, अष्टमेश, तटस्थ
सम
शुक्र – हीरा
केन्द्रेश, तृतीयेश
अशुभ
शनि – नीलम
अकारक, मारक, षष्ठेश
अशुभ

कन्या लग्न :

ग्रह – रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
व्ययेश
अशुभ
चंद्र – मोती
आयेश, तटस्थ
सम
मंगल – मूंगा
अकारक, अष्टमेश, तृतीयेश
अशुभ
बुध – पन्ना
योगकारक, लग्नेश
अतीव शुभ
गुरु – पुखराज
बाधक, केन्द्रेश
अशुभ
शुक्र – हीरा
भाग्येश, धनेश, मारकेश
सम
शनि – नीलम
त्रिकोणेश, षष्ठेश, मित्र
शुभ

तुला लग्न :

ग्रह – रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
लाभेश, बाधक, शत्रु
अशुभ
चंद्र – मोती
कर्मेश, केन्द्रेश, तटस्थ
सम
मंगल – मूंगा
मारकेश, धनेश
अशुभ
बुध – पन्ना
त्रिकोणेश, व्ययेश, मित्र
सम
गुरु – पुखराज
अकारक, त्रिषडायेश, शत्रु
अशुभ
शुक्र – हीरा
लग्नेश, षष्ठेश, कारक
शुभ
शनि – नीलम
योगकारक, त्रिकोणेश
अतीव शुभ

वृश्चिक लग्न :

ग्रह – रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
कर्मेश, मित्र, कारक
अतीव शुभ
चंद्र – मोती
भाग्येश, योगकारक, बाधक
सम
मंगल – मूंगा
लग्नेश, कारक, षष्ठेश
शुभ
बुध – पन्ना
अकारक, अष्टमेश
अशुभ
गुरु – पुखराज
धनेश, पंचमेश, मारक, तटस्थ
सम
शुक्र – हीरा
सप्तमेश, मारकेश, व्ययेश
अशुभ
शनि – नीलम
तृतीयेश, केन्द्रेश
अशुभ

धनु लग्न :

ग्रह – रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
त्रिकोणेश, भाग्येश
अतीव शुभ
चंद्र – मोती
अष्टमेश, मित्र, तटस्थ
सम
मंगल – मूंगा
पंचमेश, व्ययेश
सम
बुध – पन्ना
बाधक, मारक, केन्द्रेश
अशुभ
गुरु – पुखराज
त्रिकोणेश, लग्नेश, सुखेश
शुभ
शुक्र – हीरा
अकारक, त्रिषडायेश
अशुभ
शनि – नीलम
मारक, पराक्रमेश, शत्रु
अशुभ

मकर लग्न :

ग्रह – रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
अष्टमेश, तटस्थ
सम
चंद्र – मोती
सप्तमेश, केंद्रश, तटस्थ
सम
मंगल – मूंगा
बाधक, सुखेश
अशुभ
बुध – पन्ना
भाग्येश, षष्ठेश
सम
गुरु – पुखराज
अकारक, व्ययेश
अशुभ
शुक्र – हीरा
योगकारक, कर्मेश, मित्र
अतीव शुभ
शनि – नीलम
लग्नेश, धनेश, कारक
शुभ

कुंभ लग्न :

ग्रह – रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
सप्तमेश, तटस्थ
सम
चंद्र – मोती
षष्ठेश, अकारक
अशुभ
मंगल – मूंगा
केन्द्रेश, तृतीयेश, शत्रु
अशुभ
बुध – पन्ना
पंचमेश, अष्टमेश
सम
गुरु – पुखराज
मारक, एकादशेश
अशुभ
शुक्र – हीरा
योगकारक, सुखेश, भाग्येश
अतीव शुभ
शनि – नीलम
कारक, लग्नेश, व्ययेश
शुभ

मीन लग्न :

ग्रह – रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
षष्ठेश, तटस्थ
सम
चंद्र – मोती
पंचमेश, कारक
शुभ
मंगल – मूंगा
भाग्येश, धनेश, मारक
सम
बुध – पन्ना
बाधक, मारक, चतुर्थेश
अशुभ
गुरु – पुखराज
योगकारक, लग्नेश, कारक
अतीव शुभ
शुक्र – हीरा
अकारक, अष्टमेश, पराक्रमेश
अशुभ
शनि – नीलम
लाभेश, व्ययेश
अशुभ


Quote

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More