Forum

शुभ मुहूर्त का चयन ...
 
Notifications
Clear all

शुभ मुहूर्त का चयन Selection of auspicious time


Neeraj Goel
(@neeraj-goel)
Eminent Member Registered
Joined: 6 months ago
Posts: 21
Topic starter  

विभिन्न कार्यों के लिए तिथि, वार, नक्षत्र आदि के आधार पर जिन मुहूर्तों का चयन किया जाता है, उनमें अथर्ववेद के अनुसार तिथि, वार, करण, योग, तारा, चंद्रमा तथा लग्न का फल उत्तरोत्तर हजार गुणा तक बढ़ता जाता है। परंतु महर्षि गर्ग, नारद और कश्यप मुनि केवल लग्न की प्रशंसा करते हैं क्योंकि लग्न शुद्धि का विचार न करके किया गया कोई भी काम पूर्णतः निष्फल हो जाता है। इन सबसे ऊपर स्थानीय मध्यान्ह काल में 248 पल का अभिजित नामक मुहूर्त समस्त शुभ कार्यों के लिए सर्वश्रेष्ठ है। परंतु बुधवार को इस मुहूर्त का भी परित्याग करना चाहिए गर्भ धारण से अन्त्येष्टि तक सभी संस्कारों तथा अन्य मांगलिक कार्यों में मुहूर्त की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। अब प्रश्न उठता है कि मुहूर्त क्या है?

किसी कार्य के सफल संपादन के लिए ज्योतिषीय गणना पर निर्धारित समयावधि को मुहूर्त कहा जाता है। दूसरे शब्दों में हम कह सकते हैं कि अच्छे (बलवान) समय या शुभ अवसर के चयन की प्रक्रिया को शुभ मुहूर्त कहते हैं। मुहूर्त शास्त्र के अनुसार तिथि, वार, नक्षत्र, योग, करण आदि के संयोग से शुभ या अशुभ योगों का निर्माण होता है। मुहूर्त ज्योतिष शास्त्र का सबसे प्राचीन और महत्वपूर्ण अंग है। मुहूर्त के करण ही ज्योतिष शास्त्र को वेद का नेत्र कहा गया है। शुभ मुहूर्त हेतु तिथि, वार, नक्षत्र को चयन शुभवार- सोम, बुध, गुरु और शुक्रवार। शुभ मुहूर्त हेतु शुभ वार हैं। शुभ तिथि- दोनों पक्षों की 2, 3, 5, 7, 10, 12वीं तिथि और कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा तथा शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी ये शुभ तिथियां हैं।

शुभ नक्षत्र - अश्विनी, रोहिणी, मृगशिरा, पुनर्वसु, पुष्य, उत्तराफाल्गुनी, हस्त, चित्रा, स्वाती, अनुराधा, उत्तराषाढ़ा, श्रवण, धनिष्ठा, शतभिषा, उत्तरा भाद्रपद, रेवती - ये शुभ नक्षत्र हैं। तारा बल- जन्म नक्षत्र से इष्टकालीन नक्षत्र (जिस दिन कार्य करना हो उस दिन के चंद्र नक्षत्र) की संख्या को 9 से भाग देने पर यदि शेष संख्या 1,2,4,6,8,0 रहे तो शुभ ताराबल प्राप्त होता है। यदि 3,5,7 शेष रहे तो तारा अशुभ होती है। मुहूर्त में अशुभ तारा का त्याग करना चाहिए। किंतु ताराबल का विचार सिर्फ कृष्ण पक्ष में ही करना चाहिए। चंद्रबल- अपनी जन्म राशि से 1,3,6,7,10,11 वें स्थान का चंद्रमा शुभ होता है। इसके अलावा शुक्ल पक्ष में 2,5,9वीं राशि स्थान का चंद्रमा भी शुभ होता है। यदि चंद्रमा क्रूर ग्रह से युक्त अथवा क्रूर ग्रहों के मध्य में हो तो शुभ कार्य नहीं करना चाहिए। यदि चंद्रमा से सप्तम स्थान में क्रूर ग्रह सूर्य, शनि या मंगल हो तो विवाह, यात्रा, चूड़ाकर्म तथा गृह प्रवेश नहीं करना चाहिए। शुभ मुहूर्त में लग्न का बल सर्वाधिक होता है

- अथर्ववेद के अनुसार मुहूर्त में तिथि का फल एक गुणा, नक्षत्र चार गुणा, वार का फल आठ गुणा, करण का फल सोलह गुणा, योग का फल बत्तीस गुणा, तारा का फल साठ गुणा, चंद्रमा का फल सौ गुणा और लग्न का फल एक हजार गुणा होता है। महर्षि गर्ग, नारद और कश्यप मुनि केवल लग्न की प्रशंसा करते हैं। इसके अनुसार लग्न का विचार छोड़कर जो कुछ काम किया जाये, वह सब निष्फल होता है। जैसे ग्रीष्म ऋतु में क्षुद्र नदियां सूख जाती हैं। वैसे ही तिथि, नक्षत्र, योग अथवा चंद्रमा के बल का कोई महत्व नहीं है। लोग कहते हैं कि चंद्रमा का बल प्रधान है, किंतु शास्त्रों के अनुसार लग्न का बल ही प्रधान है।

वर्ष मासो दिनं लग्न मुहूर्तश्चेति पंचकम्। कालस्या गानि मुख्यानि प्रबलान्युत्तरोत्तम्।। वर्ष, मास, दिन, लग्न और मुहूर्त ये उत्तरोत्तर बली है। लग्न शुद्धि

- शुभ मुहूर्त हेतु उपचय राशि का लग्न, ग्रहण, करना चाहिए। अपनी जन्म राशि से 8वीं या 12वीं राशि का लग्न ग्रहण नहीं करना चाहिए।
- लग्न से 8वें, 12वें स्थान में कोई ग्रह न हो।
- मुहूर्त लग्न के केंद्र-त्रिकोण स्थानों (1,4,7,10,5,9) में शुभ ग्रह हो तथा 3,6,11वें स्थान में पापग्रह हों।
- जो लग्न जितने अधिक शुभ ग्रहों से युक्त, दृष्ट हो उतना ही अधिक बली और फलप्रद होता है।
- जिस मुहूर्त लग्न से चंद्रमा 3,6,10 या 11वें स्थान में हो तो उस मुहूर्त में किये गए सभी कार्य सफल होते हैं। उपरोक्त प्रकार से शोधित मुहूर्त लग्न सर्वोत्तम होता है।
- यदि केंद्र या त्रिकोण में स्थित पापग्रहों पर बुध, गुरु या शुक्र की दृष्टि हो अथवा केंद्र या त्रिकोण में स्थित बुध, गुरु या शुक्र की दृष्टि पाप ग्रहों पर हो तो पाप ग्रह भी दोषकारक नहीं होता बल्कि उसका फल शुभ हो जाता है।


Quote

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More